Sunday, November 19, 2017

राजनीति है भाई

राजनीति है भाई
यहां सब चलता है,
इलेक्शन के बाद
वोटर हाथ मलता है।

झूठ-फरेब और चापलूसी
मक्कारों का सिक्का जमता है,
झूठे वादे और लफ्फाजी
षड्यंत्रकारी वो चाल चलता है।

ल्टी-पुल्टी बातों में फांस
तरह-तरह के जाल बुनता है,
मगरूर हो ऐसे चलता है
जनता की न एक सुनता है।

क-धक धोती, मलमल कुर्ता
काली कमाई पर वह पलता है,
 घोड़ा-गाड़ी, बंगला-मोटर
विरोधियों को देख वह जलता है।

मानदारी की बात न कर
पावर, पैसा तू पकड़,
नैतिकता, शुचिता बेकार की बातें
बस ढोंग-ढकोसला ही चलता है।

नाटकबाजी और शोशेबाजी
बहुरुपिये का रूप धरता है,
झूठ इतनी बार बोलता है कि
सबसे सच्चा दिखने लगता है।

बेटा-बेटी, भाई-भतीजा
यहां सब चलता है
अजी, देश हित की बात छोड़िये,
अपनी जेब तो खूब भरता है।

राजनीति है भाई
यहां सब चलता है
सड़कें सूनी, संसद मौन
बस खद्दरधारी नेता बोलता है।

- संतोष सारंग

Saturday, November 18, 2017

ये कैसी हवा चल पड़ी है

मेरी पहली कविता

ये कैसी हवा चल पड़ी है
धुंध में लिपटी हुई-सी
धूल-कणों में सनी हुई-सी
कालिमा की चादर ओढ़े
सनसनाती, अट्ठहास करती
मतवाली चाल चल रही है.

जीब-सी गंध है
मंद है, पैबंद है
ये असहिष्णुता की दुर्गंध है
वन चमन को मानव मन को
वातावरण और धरती तल को
दूषित करती चल रही है.

श्वास बनकर ऊंसांस भरती
रक्त-कणों में, धड़कनों को
स्पंदित करती, प्राण भरती
अब हो चली है जानलेवा
दमघोंटू और जहरीला
प्राण हरती चल रही है.

बक सिखाती इंसानों को
कहती-फिरती चल रही है
राम-रहीम हो या मुल्ला
पोंगा-पंडित हो या भुल्ला
सबके फेफड़ों को भरती
रुग्ण करती चल रही है.

ये कैसी हवा चल पड़ी है
 संसद के गलियारों से बहती
जोर लगाती, दीवारों से टकराती
राजनीति की सड़ांध लिये
अब हो चुकी है तेज हवा
दमनकारी हो चल रही है.

त्ताधीशों, धनवानों को
धर्मभीरुओं और हुक्मरानों को
चिल्लाती कहती, ऐ इंसानों
ताकत है तो बांट मुझे
हिंदू और मुसलमानों में
तुममें कभी उसमें मैं विचरता रहता हूं.

तुम्हारे स्वार्थ व ऐश्वर्य ने
मुझे और सघन किया है
धर्म व धुएं के गुबारों ने
मुझमें और जहर भरा है
अब न माने तुम इंसानों
प्राण-वायु को तरस जाओगे. ‍

- संतोष सारंग

Monday, October 9, 2017

Friday, September 23, 2016

मुजफ्फरपुर में मीडिया कॉनक्लेव की तस्वीरें

18 सितंबर 2016 को मुजफ्फरपुर के द पार्क होटल में

Tuesday, September 20, 2016

अप्पन समाचार को मिला 'मीडिया खबर मीडिया अवार्ड'

मुजफ्फरपुर के द पार्क होटल में 18 सितंबर 2016 को मीडिया खबर डॉट कॉम के बैनर तले आयोजित नौवें मीडिया काॅनक्लेव में अप्पन समाचार को 'मीडिया खबर मीडिया अवार्ड' से नवाजा है.  बीबीसी के पूर्व संवाददाता मणिकांत ठाकुर, वरीय पत्रकार शैलेश व इंडिया न्यूज के ग्रुप एडिटर राणा यशवंत ने अप्पन समाचार के संस्थापक संतोष सारंग को शील्ड देकर पुरस्कृत किया. इस मौके पर अप्पन समाचार के अमृतांज इंदीवर, राजेश कुमार व रिंकु कुमारी मौजूद थे.
काॅन्क्लेव में 'राष्ट्रीय मीडिया में बिहार', 'राष्ट्रीय मीडिया में किसान' एवं 'बिहार में मीडिया का अर्थशास्त्र' विषय पर तीन सत्रों में मीडिया के महारथियों ने अपने विचार व्यक्त किये. किसान मंत्र व बिहार दस्तक नाम के दो वेबपोर्टल को भी लांच किया गया. इस मौके पर वरीय पत्रकार अनुरंजन झा, कशिश न्यूज के बिहार हेड संतोष सिंह, इटीवी के राष्ट्रीय संपादक आसित कुणाल, मीडियाखबर.कॉम के संपादक पुष्कर पुष्प आदि ने भी संबोधित किया.